लालची कुम्हार हिंदी कहानी/2020

लालची कुम्हार हिंदी कहानी
लालची कुम्हार हिंदी कहानी

 

 

लालची कुम्हार 

कई साल पहले की बात है। एक गाँव में युधिष्ठिर नाम का एक कुम्हार रहा करता था। दिन के समय वह मिट्टी के बर्तन बनाता था और जो भी पैसा मिलता उससे शराब खरीदता था।

एक रात वह नशे में अपने घर लौट रहा था। वह इतना नशे में था कि ठीक से चल भी नहीं पा रहा था। अचानक उसका पैर लड़खड़ा गया और वह जमीन पर गिर गया। जमीन पर कांच के टुकड़े थेए जिनमें से एक टुकड़ा माथे में कियाउसके माथे से खून बहने लगा। कुम्हार इसके बाद किसी तरह उठा और अपने घर की ओर चल दिया।अगले दिन जब उसे होश आयाए तो वह वैद्य के पास गया और उसे पट्टी बांधकर दवाई दी। वैद्य ने कहाए  ष्जैसा कि घाव गहरा हैए ठीक होने में समय लगेगा। पूरी चिकित्सा के बाद भी यह निशान दूर नहीं होगा।

लालची कुम्हार हिंदी कहानी

इसके बाद कई दिन बीत गए। अचानक उसके गाँव में सूखा पड़ गया सब लोग गाँव छोड़कर जाने लगे थे। कुम्हार ने गाँव छोड़कर दूसरे देश के लिए प्रस्थान करने का भी फैसला किया।

एक नए देश में जाने के बादए वह नौकरी मांगने के लिए राजा के दरबार में गया। वहाँ राजा ने अपने माथे पर चोट के निशान देखे और सोचाए यह एक शक्तिशाली योद्धा होगा और दुश्मन से लड़ते समय उसके माथे पर चोट लगी होगी।

यह सोचकरए राजा ने उसे अपने दरबार में एक विशेष स्थान दिया और उस पर विशेष ध्यान देना शुरू कर दिया। यह देखकर राजा के दरबार में मौजूद प्रधानए सेनापति और अन्य मंत्री उससे जलने लगे।

ऐसा कई दिनों तक चला। एक दिन दुश्मनों ने राजा के महल पर हमला कर दिया। राजा ने अपनी पूरी सेना को युद्ध के लिए तैयार कर लिया। उन्होंने युधिष्ठिर को युद्ध में जाने के लिए भी कहा।जब युधिष्ठिर युद्ध के मैदान की ओर जा रहे थेए तो राजा ने उनसे पूछा कि किस युद्ध में उनके माथे पर यह चोट लगी है।

 

इस पर कुम्हार ने सोचा कि अब उसने राजा का विश्वास जीत लिया है और अब यदि वह राजा को सच्चाई बताएगा तो कोई समस्या नहीं होगी। यह सोचकर राजा ने कहाए ष्राजनए मैं एक योद्धा नहीं हूँ। मैं एक साधारण कुम्हार हूँ। मुझे किसी भी युद्ध में चोट नहीं लगीए  । यह चोट मुझे किसी युद्ध में नहींए बल्कि शराब पीकर गिरने के कारण लगी थी। कुम्हार की यह बात सुनकर राजा को बहुत गुस्सा आया। उन्होंने कहा आपने मेरा विश्वास तोड़ा है और मुझे  छल कर दरबार में इतना ऊंचा पद हासिल किया है। मेरे राज्य से बाहर निकलो।कुम्हार ने राजा से विनती करते हुए कहा कि यदि उसके पास मौका होता तो वह युद्ध में राजा के लिए मर भी सकता था।राजा ने कहाए ष्हालांकि आप बहादुर और पराक्रमी हैंए लेकिन आप शूरवीरों के वंश से नहीं हैं।

लालची कुम्हार हिंदी कहानी

 

आपकी हालत शेरों के बीच रहने वाले सियार की तरह है, जो इसे लड़ने के बजाय हाथी से दूर भागने की बात करता है। मैं तुम्हें जाने दे रहा हूंए लेकिन अगर राजकुमारों को तुम्हारा रहस्य पता हैए तो वे तुम्हें मार देंगे। इसलिएए मैं कहता हूं कि अपनी जान बचाओ और भाग जाओ। श्कुम्हार ने राजा की बात मान ली और तुरंत वह राज्य छोड़कर चला गया।

 लालची कुम्हार हिंदी कहानी से शिक्षा

दोस्तों हमें कभी ही दूसरों को धोखा देने के लिए झूठ मूठ का बर्ताव नहीं करना चाहिए इस कहानी में कुम्हार  ने राजा के गलत निर्णय लेने पर परिस्थितियों को अपने अनुसार पाया और उसने सच को छुपाया जबकि कुम्हार को अच्छी तरह पता था कि वह कभी युद्ध नहीं लड़ सकता लेकिन उसने लालच में आकर राजा और सभी लोगों को धोखा दिया मित्रों  इसमें कुम्हार की जान भी जा सकती थी लेकिन राजा ने बढ़ा दे कर के उसको छोड़ दिया 

अतः हमें लालच में आकर सच को छुपाना नहीं चाहिए  क्योंकि सत्य कभी नहीं  छुपता

अंगूर खट्टे है। hindi kahaniya 2020

लालची कुम्हार हिंदी कहानी

लालची कुम्हार हिंदी कहानी

लालची कुम्हार हिंदी कहानी

लालची कुम्हार हिंदी कहानी

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Twitter
Instagram