चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020

 

चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020

पहले जमाने की बात है एक गांव में एक साधु रहता था । वह प्रतिदिन मंदिर में पूजा पाठ व उपदेश देने का कार्य करता था । उसके प्रति लोगों के मन में बहुत ही सद्भावना थी और वह मंदिर की देखरेख भी करता था ।जब भी कोई भक्ति मंदिर में भगवान के दर्शन के लिए आता था तो वह है कुछ ना कुछ साधु के लिए लाता था। भक्तजन  दूध, वस्त्र और रुपए आदि साधु को दान दिया करते थे। इससे साधु को किसी वस्तु की कमी नहीं रहती थी । लेकिन साधु का मन भगवान भक्ति में  लगा रहता था ।और वह पूर्ण विश्वास के साथ प्रभु भक्ति करने लगा।

 

जब भी साधु भोजन करता तो वह बचा हुआ भोजन एक टोकरी में रखकर उसको छत में टांग देता  था। इस तरह साधु का जीवन आराम से व्यतीत हो रहा था । लेकिन कुछ दिनों के बाद साधु को थोड़ा अजीब महसूस होने लगा वह जब भी खाने का सामान उस टोकरी में रखता था तो वह  गायब हो जाता था। साधु ने  इस रहस्य का पता लगाने का निर्णय किया उसने रात को दरवाजे के पीछे से   छुप कर देखा कि एक छोटा सा चूहा उसका भोजन निकाल कर ले जाता है। दूसरे दिन उन्होंने उस टोकरी को इस तरह से और ऊपर  टांग दिया कि वह  चूहा  टोकरी तक नहीं पहुंच पाए लेकिन यह उपाय  भी काम ना आ सका । वह चूहा बहुत चालाक था । वह ऊंची छलांग लगाकर   भोजन निकाल लेता  था।

एक दिन मंदिर में एक  भिक्षुक साधु से मिलने के लिए आया। उसने साधु को परेशान देखा और साधु की  परेशानी को दूर करने का  निर्णय लिया ।उसने साधु से उसकी दुख का कारण जाना और फिर साधु और भिक्षुक दोनों ने मिलकर यह निर्णय लिया कि वह चूहा इतनी ऊंचाई पर कैसे छलांग लगा लेता है।

साधु और भिक्षुक  दोनों ने मिलकर  चूहे के बिल को खोज लिया उन्होंने देखा कि चूहे ने बहुत बड़ी मात्रा में भोजन   इकट्ठा किया हुआ है उन्होंने वह भोजन  वहां से उठाया और उसको गरीबों में बांट दिया जब चूहा वापस अपने    बिल में आया तो वहां पर भोजन को न पाकर बहुत दुखी हुआ  दुख के कारण उसका आत्मविश्वास भी चला गया  ।  चूहे ने सोचा कि वह फिर से भोजन तब एकत्रित कर लेगा ।

फिर जब साधु ने भोजन करें बचे हुए भोजन को टोकरी में टांग दिया । चूहा साधु के सो जाने पर बहुत ऊंची छलांग लगाई लेकिन वह टोकरी तक नहीं पहुंच पाया और नीचे गिर गया साधु ने उसको वहां से भगा दिया ।

 

 कहानी से शिक्षा (चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020)

हमें इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि हमें कभी भी अपने जीवन में आत्मविश्वास की कमी नहीं आने देनी चाहिए भले ही हमारे पास संसाधनों की कमी क्यों ना हो जाए अगर हमारा आत्मविश्वास बना रहेगा तो हम सफलता को प्राप्त कर  लेंगे।

 

 

must Read …..

बगुला भगत/Bagula Bhagat-Panchtantra/2020

एक जंगल में बहुत विशाल तालाब  था  जो पानी से हमेशा भरा रहता था   इसमें हर प्रकार के जीवों के लिए खाद्य सामग्री उपलब्ध थी   उसने अनेक प्रकार के जीव जंतु मछलियां पक्षी कछुए और केकड़े रहते थे  तालाब के पास में ही एक बगुला रहता था जो बहुत आलसी  स्वभाव का था  परिश्रम करना उसको बिल्कुल भी पसंद नहीं था  वह अक्सर भूखा ही रहता था  जिसके कारण उसका शरीर भी कमजोर हो गया था । मछली पकड़ने में तो मेहनत लगती है लेकिन वह आलसी स्वभाव होने के कारण मछली का शिकार नहीं करता था  वह अक्सर इसी सोच विचार में डूबा रहता था कि क्या उपाय किया जाए जिससे उसे बिना मेहनत किए ही स्वादिष्ट भोजन  मिलता रहे । एक दिन उसे एक उपाय सोचा और  वह उसे आजमाने बैठ गया……………

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020,चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020,चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020,चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020,चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020,चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020,The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020,चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020,चूहे और साधु की कहानी The Hermit and The Mouse /hindi story/Panchtantra/2020

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Twitter
Instagram